नाम किया है रोशन... - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

बुधवार, 12 अक्तूबर 2016

नाम किया है रोशन...

बॉलीवुड और बेटियां 

                बॉलीवुड मेंं कई ऐसे स्टार्स हैें, जिनकी केवल दो बेटियां हैं...


                            
बेटियां बेटों के मुकाबले दो परिवार, दो समाज या कहें कि दो अलग-अलग स्थान का एक ऐसा सेतु होती हैं, जिसके जुड़ाव में पूरे समाज का अवलंब होता है। तभी तो किसी ने क्या खूब कहा है कि बेटा तरक्की करें, तो एक कुल का नाम रोशन होगा लेकिन जब बेटियां कामयाबी की  इबारत लिखे तो एक नहीं, बल्कि दो कुलों का नाम रोशन करेगी या करती हैं।
यह हौसला उस परिवार ने और बढ़ाया है जहां केवल बेटियां जन्मीं। दो या तीन बेटियों के बाद बेटा की उम्मीद इस लालसा से नहीं की गई कि खानदान का वंश किस भांति आगे बढ़ेगा। शिक्षा ने समाज की सोच बदली। शहरीकरण और पेशेवर जिंदगी ने हमारी मानसिकता को परंपरागत दायरे से बाहर निकाला और हम उससे कुछ अलग हटकर सोचने लगे जैसे कि हमारी दादी या नानी सोचा करती थी। हमारे, आपके घर के आस-पास कई ऐसे परिवार मिल जाएंगे जहां केवल एक, दो या तीन बेटियां हैं तो क्या वह परिवार समाज की किसी भी मुख्यधारा से खुद को अलग कर ले? शायद नहीं।
बॉलीवुड, जिसे हम सपनों, सितारों की दुनिया कहते हैं यहां के ज्यादातर लोग आर्थिक तौर भी संपन्न हैं लेकिन इन्होंने कभी भी बेटियों की आमद को बाधा नहीं पहुंचाई। जबकि वो बड़ी आसानी से मेडिकल साइंस का सहारा लेकर बेटियों के बदले केवल बेटे ही पैदा कर सकते थे। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। ऐसी किसी कोशिश का कोई नजीर भी नहीं है। बॉलीवुड के कई सितारों के परिवार हैं जिनकी बगिया में सिर्फ कलियां ही कलियां खिली हैं और अपनी खुशबू से देश ही नहीं पूरी दुनिया को महका रही हैं।
बॉलीवुड में कुछ ऐसे सितारे हैं, जिनका आंचल दो बेटियों से गुलजार है। मसलन तनुजा की दो बेटियां-काजोल और तनीषा, बबीबा की दो बेटियां-करिश्मा और करीना कपूर, हेमा मालिनी की दो बेटियां-ईशा और आहाना, डिंपल कपाड़िया की दो बेटियां-ट्विंकल और रिंकी खन्ना, सारिका की दो बेटियां-श्रुति और अक्षरा, श्रीदेवी की दो बेटियां - जाह्नवी और खुशी। ऐसे और भी फिल्म परिवार हो सकते हैं। 




बॉलीवुड में ये वो नाम हैं, जिन्हें सिर्फ बेटियों की मां बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। कभी इनका इस बात का गम सामने नहीं आया कि इनकी कोख ने बेटा नहीं जन्मा। हंसी खुशी इन्होंने अपनी बेटियों को वो सब हौसला दिया जो दूसरों ने अपने बेटों को दिया है। अगर वे अभिनय कर सकती हैं तो अभिनय किया अगर निर्देशन कर सकती हैं तो उन्हें निर्देशन करने दिया गया। चाहे एक बेटी हो या दो, मां-बाप ने बेटों की तरह उसे पूरी आजादी दी।  
तनुजा अपने जमाने की बेहतरीन एक्ट्रेस रही हैं और जब उनकी बेटी काजोल रुपहले पर्दे पर उतरीं उन्होंने सफलता का ऐसा परचम लहराया कि हर कोई उनके साथ फिल्म बनाने को बेताब हो उठा। देखते ही देखते उनके फैन्स की लिस्ट लंबी होती गई। सामान्य सी शक्ल सूरत की काजोल ने अपनी हर रंग की अदाकारी से साबित कर दिया कि खूबसूरत होना काफी नहीं, कलाकार का हुनर खास मायने रखता है। उसी तरह बबीता ने अपने जमाने में अपनी अदायगी से सिने प्रेमियों का दिल जीता था तो नब्बे के दशक में पहले उनकी बड़ी बेटी करिश्मा कपूर ने सनसनी मचा दी और साल दो हजार के बाद उनकी छोटी बेटी करीना कपूर ने बॉलीवुड पर राज करना शुरू कर दिया। हालांकि करिश्मा कपूर को पहले अपने घर में सवालों का सामना करना पड़ा था। हिंदी सिनेमा के विकास में कपूर खानदान का योगदान अहम है जबकि कपूर खानदान की बेटी फिल्मों में काम नहीं करती, ऐसा कहा जाता था लेकिन करिश्मा ने अपना प्रयास जारी रखा और एक दिन परिवार के सदस्यों को मनाने में कामयाबी हासिल कर ही ली। फिर तो महज सोलह साल की उम्र में करिश्मा ने वो विस्फोटक करिश्मा कर दिखाया, जिसे पहले किसी ने नहीं किया था। कपूर खानदान की बेटी पर्दे पर उतरी और वो भी बोल्ड अंदाज में। उसकी धमाकेदार एंट्री और बॉलीवुड में धाक जमने के बाद जब करीना आई तो वह भी करिश्मा से कमतर साबित नहीं हुई।    




ड्रीमगर्ल यानी हेमामालिनी ने अपने जमाने के फिल्म प्रेमियों के दिलों पर किस कदर सालों राज किया है, यहां उसकी विस्तार से चर्चा की जरूरत नहीं। हेमा के लिए उनके फैन्स की दीवानगी का आलम यह था कि जिस फिल्म के पोस्टर पर उनका चेहरा और नाम होता था, उसे देखने वालों की टिकट खिड़की पर भारी भीड़ उमड़ जाती थी। फिल्म को सुपरहिट होने से कोई रोक नहीं सकता था। ऐसा था हेमा मालिनी का जादू। हेमा ने जब सिनेमा से किनारा किया तो उनकी बड़ी बेटी ईशा देओल ने इंडस्ट्री में कदम रखा। ईशा ने कई फिल्मों में बेहतरीन अदाकारी दिखाई और कई हिट फिल्में दी। हां, यह सही है कि ईशा अपनी मां की तरह बहुत लंबे समय तक पॉपुलरिटी के पायेदान पर नहीं रह सकीं लेकिन जितनी भी फिल्मों में काम किया वे बेहद खास हैं। ईशा देओल बेहतरीन अदाकारा होने के साथ-साछ बेहतरीन डांसर भी हैं। अपने काम से उन्होंने सबको प्रभावित किया है। ऋतिक रोशन ने भी एक बार कहा था कि वह ईशा के डांस से बेहद प्रभावित हैं।  
हेमा की छोटी बेटी अहाना भी अपनी मां की तरह बेहद खूबसूरत और साहसी हैं लेकिन उसकी कोई फिल्म नहीं आ सकी और वह भी शादीशुदा जिंदगी बिता रही हैं। हालांकि कहा जाता है कि अहाना को अभिनय के बजाय निर्देशन से बहुत लगाव है और देर सबेर इस क्षेत्र में कदम जरूर रख सकती हैं। 
बॉबी गर्लडिंपल कपाड़िया को भला कौन भूल सकता है। सुपर स्टार राजेश खन्ना से विवाह के बाद उनकी भी दो पुत्रियां हुईं-ट्विंकल खन्ना और रिंकी खन्ना। ट्विंकल खन्ना ने कई फिल्मों में शानदार अभिनय भी किया। कमरिया मोरा लचके रे... गीत पर ट्विंकल की अदाकारी उसकी विशेष पहचान बनीं तो रिंकी ने भी कई फिल्मों में छोटी-मोटी किंतु अहम भूमिकाएं करती रहीं। बाद में ट्विंकल खन्ना ने अक्षय कुमार से शादी कर ली। फिलहाल दोनों बहनें अपनी-अपनी दुनिया में अपनी-अपनी जिंदगी जी रही हैं।
बांग्ला के साथ-साथ हिंदी फिल्मों की मशहूर हीरोइन रहीं मुनमुन सेन की दोनों बेटियों-राइमा और रिया ने फिल्मों के अलावा मॉडलिंग में भी अपना खास जलवा बिखेरा है। तो वहीं गुजरे जमाने की नीली आंखों वाली स्वीट अभिनेत्री सारिका की दोनों बेटियां- श्रुति और अक्षरा हासन ने भी बॉलीवुड में अपनी अभिनय क्षमता के आकर्षण की बदौलत अलग पहचान बनाई है।
और अब आ रही हैं हवा-हवाई गर्ल की दोनों बेटियां भी ; जी हां, इनमें बड़ी बेटी जाहनवी कपूर तो फिल्मों आने के लिए तैयार भी है। 
-ममता चौधरी
(पिक्चर प्लस के जून 2016 अंक से साभार)  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad