उड़ गई आलिया ! - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

शनिवार, 15 अक्तूबर 2016

उड़ गई आलिया !


बॉलीवुड के हाई-वे पर उड़ गई एक लड़की ब्यूटीफुल।


जी हां, ये आलिया भट्ट ही है। पहले तो अपनी चुलबुली अदाओं से अपनी उम्र के किशोर वय के युवकों को दीवाना बनाया लेकिन अब उसके अभिनय की संजीदगी की चर्चा हर उम्र के दर्शक और समीक्षक कर रहे हैं। आलिया अब वैसी नहीं, जैसा उसे पहले कहा गया। चाहे जैसा किरदार दे दो, उस किरदार के मिजाज में डूब कर दिखा सकती है आलिया भट्ट; यही उसने हाल की फिल्मों में साबित कर दिखाया है। हाई वे के बाद उड़ता पंजाब जिसने भी देखी, वह आलिया के अभिनय कौशल की तारीफ किये बिना नहीं रहा। पंजाब के खेतों में काम करने वाली बिहार की मजदूरन बनना आलिया जैसी ग्लैमरस अभिनेत्री के लिए कितना चुनौतीपूर्ण चुनाव रहा होगा, यह तो वही बता सकती है। लेकिन उसने अपनी ग्लैमस छवि की कोई चिंता नहीं की। किरदार के रंग में रंग गई और दर्शकों के दिलों को दीवाना बना दिया। हां यह ठीक है कि उड़ता पंजाब में शाहिद कपूर ने भी काफी दमदार अभिनय किया है लेकिन आलिया का अभिनय उसके आगे कहीं भी फीका नहीं पड़ा है। इस फिल्म के बाद तो उसने साबित कर दिया है कि  वो फिल्मी पाठशाला की स्टूडेंट ऑफ द ईयरबनने के सारे गुण रखती हैं।
प्रख्यात फ़िल्मकार निर्माता/निर्देशक महेश भट्ट और उनकी पत्नी सोनी राज़दान की बेटी आलिया भट्ट ने मात्र 19 साल की उम्र में हिंदी सिनेमा में बतौर एक्ट्रेस अपने करियर की शुरुआत की । अपनी पहली ही फिल्म स्टूडेंट ऑफ द इयर में अपने चुलबुले अभिनय से आलिया ने एक विशेष छाप छोड़ी थी। अमीर घराने में पली बढ़ी कॉलेज गोइंग स्टूडेंट शनाया सिंघानिया का किरदार बखूबी निभाया था। शनाया का एक डायलॉग लड़कियों में काफी फेमस सा हो गया है: हाथ में पॉपकार्न ले के लड़कों के लिए चिल्लाना मेरा स्टाइल नहीं है,  वो मेरे लिए      चिल्लाये, सीटी बजाए That's more my thingर्शकों ने इसे काफी पसंद किया, खासतौर से युवाओं ने। तभी से आलिया नवयुवकों के दिल की धड़कन बन गई। इस किरदार को देखकर हमें कभी खुशी कभी ग़म की करीना कपूर की याद आती है जो फैशन और स्टाइल की दुनिया में अपने आप को रानी मानती है। कॉलेज की जिंदगी पर आधारित यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल रही । इस फिल्म से आलिया भट्ट के अलावा सिद्धार्थ मल्होत्रा और वरुण धवन के रूप में तीन नए कलाकार बॉलीवुड को मिले। इससे पहले साल 1999 में अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म संघर्ष में आलिया ने प्रीति जिंटा के बचपन का रोल निभाया था।  


      15 मार्च 1993 को मुंबई में जन्मीं आलिया का पूरा परिवार ही फिल्‍म इंडस्‍ट्री में लंबे समय से जुड़ा रहा है। आलिया की सगी बड़ी बहन शाहीन हैं जबकि सड़क फिल्म से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत करने वाली नायिका पूजा भट्ट और मॉडल राहुल भट्ट उसके पिता महेश भट्ट
की पहली पत्नी किरण की संतान हैं। इतने मशहूर निर्माता/निर्देशक की बेटी होने के बावजूद आलिया नहीं चाहती थी कि वे अपने पापा के फिल्मी वजूद का फायदा उठाकर अपने करियर की शुरुआत करें । इसी कारण आलिया ने अपनी पहली फिल्म 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' का ऑडिशन  लगभग 500 लड़कियों के बीच खुद जाकर दिया था। इसमें उसका चयन हुआ मगर इस फिल्म के निर्देशक करण जौहर ने आलिया के सामने यह शर्त रख दी कि उसे फिल्म में मुख्य भूमिका तभी  मिलेगी जब वो अपना वजन घटा लेगी। आलिया ने इसे चुनौती के रूप में लिया और तीन महीनों के अंदर ही अपना 14 किलो वजन घटा लिया। इससे पहले उसका वजन करीब 64 किलोग्राम था । फिल्म में अपने किरदार की मांग को पूरा करने के खातिर उसने ऐसा किया। अभिनय के प्रति ये उसका लगाव था। आगे चलकर वर्ष 2014 में कुछ और फिल्मों में उसने कॉलेज लाइफ स्टाइल वाले किरदार ही निभाये-जिसमें चेतन भगत के नॉवेल पर बनी फिल्म 2 स्टेट्सऔर हम्पटी शर्मा की दुल्हनियांफिल्म शामिल हैं । इसी साल इम्तियाज़ अली की फिल्म 'हाई-वे' में आलिया ने जिस मासूमियत से वीरा त्रिपाठी का रोल निभाया है, उसे देखकर सभी फिल्मी प्रेमी दंग रह गए। लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि ये वही आलिया भट्ट जो कॉलेज के प्रांगण में नाचती फुदकती रहती है तो कभी पार्टी में मस्ती करती रहती है। कहां एक तरफ कॉलेज गोइंग अमीर घराने की लड़की शनाया और दूसरी तरफ अपने ही घर में कैद, यौन शोषण की शिकार लड़की, जिसका बाद में अपहरण भी हो जाता है। इन दोनों ही किरदारों में जमीन आसमान का अंतर था फिर भी आलिया ने सबका दिल जीत लिया। इस फिल्म में इतने जटिल किरदार को सफलतापूर्वक निभाने के लिए फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवॉर्ड फॉर बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी आलिया ने अपने नाम किया, साथ ही दूसरे कई अवॉर्ड्स में वो बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नॉमिनेट भी हुई । इसी वर्ष आलिया ने एक शॉर्ट फिल्म ‘Going Home’ में भी काम किया था जिसमें देर रात्रि घर आने वाली कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे को बेहतरीन तरीके से दर्शाया गया था। इसके बाद ही आलिया ने शानदार और कपूर एंड संस जैसी फिल्में भी की तो फिर चर्चा बटोर गई।
 मजाक भी खूब उड़े
आलिया को शुरुआती दिनों में वीक जनरल नॉलेज होने से मीडिया में पूछे गए कुछ सवालों के गलत जवाब देने के कारण मजाक का विषय भी बनना पड़ा था । उस पर काफी जोक्स व चुटकुले भी बने । जिसका उसे हर तरफ सामना करना पड़ा। चुनौतियों को देखते हुए यहां भी उसने जी-तोड़ मेहनत की और अपने आपको लोगों की नजरों में इस मोर्चे पर भी साबित कर दिखाया। 
                            आने वाली फिल्में
शुद्धि, डियर ज़िंदगी (शाहरुख के साथ), बदरीनाथ की दुल्हनियां, रोहित शेट्टी की पापुलर कॉमेडी फिल्म गोलमाल 4 आलिया की आने वाली फिल्में हैं।  कुछ समय पहले आलिया भट्ट ने कॉफी विद करन कार्यक्रम में स्वीकार किया था कि उसे रणवीर कपूर काफी पसंद हैं और वो उससे शादी करना चाहती हैं । शादी तो खैर दूर की बात है किंतु लगता है रणवीर के साथ रोमांस करने का मौका आलिया को ज़रूर मिलने वाला है । अयान मुखर्जी की फिल्म ड्रैगन में दोनों के एक साथ काम करने की संभावना है । वहीं दूसरी तरफ आलिया फिल्म दिल चाहता हैशैली की भूमिका करने की काफी उत्सुक हैं । फर्क सिर्फ इतना कि वो फिल्म महिला किरदार पर आधारित हो । इसके अलावा आलिया को हॉलीवुड की फिल्मों में भी काम के मौके का बेसब्री से इंतज़ार है ।
                                सिंगिंग, पेंटिंग, फैशन   
आलिया अभिनय के साथ-साथ गायन का शौक रखती है। फिल्म 'हाई-वे' में 'सूहा साहा','हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया' में 'मैं तेनू समझावां कि' का अनप्लग्ड वर्जन और फिल्म उड़ता पंजाब में इक कुड़ी जिदा नाम मोहब्बत है गाना गाया है । आलिया के इस नए अवतार को भी लोगों ने काफी सराहा है । वास्तव में आलिया ने एक्टिंग को अपना हस्बैंड तो सिंगिंग को अपना ब्वॉय फ्रेंड की तरह माना है। 
बहुत कम लोग जानते हैं कि रीयल लाइफ में आलिया चार्कोल पेंटर भी है। आलिया को शेर की चित्रकारी करना बेहद पसंद है। साथ ही कलात्मक चित्र बनाकर उन्हें अपने कमरे में सजाने का भी बहुत शौक हैं। खबरों में यकीन करें तो आलिया अभिनेता ऋतिक रोशन की पेंटिंग बनाना चाहती हैं। उसकी नजर में ऋतिक का रंग-रूप 'यूनानी देवता' जैसा है। फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयरकी शनाया का शौक कब आलिया पर हावी होकर उनका शौक बन गया ये तो आलिया खुद भी नहीं जान पाई होंगी । अक्टूबर 2014 में आलिया ने एक ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल के लिए आलियानाम से फैशन सीरीज डिजाइन के लिए अनुबंध किया । आलिया ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें फैशन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी और ना ही उन्हें फैशन से ज्यादा लगाव था, लेकिन फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयरकी शूटिंग्स के दौरान उसमें फैशन में दिलचस्पी पनपने लगी । फिर क्या था आलिया ने एक ऑनलाइन फैशन पोर्टल के साथ जुड़कर अपनी क्लोथिंग ऑन लाइन लॉन्च कर डाली । इसी समय आलिया की गुलाबी और पीले रंग वाली बिकनी सूट की फ़ोटोज़ ने भी फैशन डिजाइनरों के साथ साथ सबका ध्यान अपनी ओर खूब आकर्षित किया। आलिया इस गुलाबी बिकनी वाली तस्वीरों ने काफी चर्चे बटोरे थे ।



                                   हाई-वे पर उड़ान 
फिल्म हाईवे से गंभीर अभिनय की शुरुआत कर सुर्खियां बटोरने वाली आलिया ने जब अनुराग कश्यप की ड्रग्स समस्या पर बनी फ़िल्म उड़ता पंजाब में एक बार फिर से अपने अभिनय का लोहा मनवाया है । पंजाब के खेतों में काम करने वाली बिहारन मजदूरन लड़की नंदा का एक ऐसा कैरेक्टर, जिसका रेप किया जाता है और फिर जबरन उसे नशे का आदी बना दिया जाता है। अभिनय की आंच से खुद को तपाकर, नंदा का किरदार आलिया ने जिस संजीदगी से निभाया है वह बेहद काबिले तारीफ़ है। उसने अपने अभिनय से अपने सभी आलोचकों की बोलती ही बंद कर दी। हांलाकि भोजपुरी बोलने के टोन में कुछ कमी सी जरूर लगी जिसे उस क्षेत्र विशेष का कोई भी व्यक्ति बड़ी आसानी से पकड़ सकता है किंतु अन्य दूसरे भाषी क्षेत्रों को बिहार की भाषा का ही आभास होता है । फिल्म में उसके आव-भाव व एक्स्प्रेशन बहुत ही प्रभावशाली उभर कर आए हैं । अपने करियर के शुरुआती दौर में ही ग्लैमर रहित भूमिका निभा कर आलिया ने बहुत साहस का परिचय दिया है। फिल्म में कुछ जगहों पर वो इतनी बदसूरत दिखी हैं कि यकीन करना मुश्किल हो जाता है कि यह वही खूबसूरत फैशनपरस्त स्टाइलिस्ट आइकन शनाया है, जिसका नवयुवक दीवाना है । आगे भी आलिया अगर इसी तरह चुनौतीपूर्ण भूमिका निभाती रही तो वो दिन दूर नहीं जब स्मिता पाटिल, शबाना आज़मी, दीप्ति नवल, कंगना रानावत आदि जैसी लीक से हटकर अभिनय करने वाली अभिनेत्रियों की फेहरिस्त में उसका नाम बड़े सम्मान के साथ गिना जाने लगेगा।  इस वक्त आलिया महज 23 साल ही है और इतने कम समय में आलिया ने हिंदी सिनेमा में जो मुकाम अभी हासिल किया है उसके आधार पर कहना गलत नहीं कि मायानगरी के लंबे सफर की उड़ान पर यह ब्यूटीफुल लड़की निकल चुकी है।                           
-आशुतोष श्रीवास्तव (लेखक महात्मा गांधी अंतरारष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय में गुलजार के सिनेमा पर शोधरत हैं।)
(पिक्चर प्लस जुलाई-अगस्त 2016 से साभार)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad