सिल्वर स्क्रीन का 'प्यासा सावन' - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

शनिवार, 1 जुलाई 2017

सिल्वर स्क्रीन का 'प्यासा सावन'

हाय हाय ये मजबूरी, सिनेमा से सावन की क्यों हुई दूरी?

-कल्पना कुमारी
प्यासा सावन एक फिल्म थी इसका एक गीत था-मेघा रे मेघा रे...लेकिन आज मैं उस फिल्म की चर्चा नहीं कर रही हूं। बात कर रही हूं सिल्वर स्क्रीन और सावन के रिश्ते की।

श्री 420: राजकपूर-नरगिस: सबसे यादगार वर्षा गीत व दृश्य 
हिन्दी सिनेमा के लोकप्रिय गीतों की अगर हम बात करते हैं तो हमें कुछ ऐसे विषय नजर आते हैं जोकि ना केवल गीतों को बल्कि उन गीतों के जरिये फिल्मों के लिये भी हिट का फॉर्मूला रहे हैं। उन्हीं विषयों में होली गीत, या फिर सावन के गीत आदि हैं। आज की फिल्मों में होली के गीत तो यदा कदा सुनने को मिल जाते हैं लेकिन सावन के गीत तो अब बिल्कुल नदारद हैं। हम कह सकते हैं कि सिल्वर स्क्रीन अब बिन सावन हो गया है। अब यहां ना तो काली घटा छाती है और ना ही बारिश होती है। जबकि गुजरे जमाने में बरसात के गीतों से भरी होती थी फिल्में।
राजकपूर-नरगिस की कुछेक फिल्मों को याद कर लीजिये। श्री 420 हो या बरसात, बारिश के दृश्य इन फिल्मों की जान हैं। एक छतरी के नीचे बीच सड़क पर राजकपूर, नरगिस की बरसात की तेज बूंधों से भीगती तस्वीर हमेशा हमेशा के लिए फिल्म प्रेमियों के दृष्टि पटल पर अंकित हो चुकी है। जब कभी सिनेमा में बरसात का जिक्र आता है राजकपूर-नरगिस की छतरी लिये ये तस्वीर दिलों दिमाग में घूम जाती है।
1955 में आई फिल्म श्री 420’ का सॉफ्ट रूमानी गीत प्यार हुआ इकरार हुआ है प्यार से फिर क्यों डरता है दिलसर्वश्रेष्ठ गीत माना जाता है। मन्ना डे और लता मंगेशकर के गाए इस गीत ने लाखों दिलों में हलचल मचा दी थी। कई वर्ष बीत जाने के बावजूद इस गीत का महत्त्व कम नहीं हुआ है और न ही इसकी टक्कर का कोई गीत आया। इसी तरह मधुबाला और किशोर कुमार पर फिल्माए गए चलती का नाम गाड़ीका गीत एक लडक़ी भीगी-भागी सीभी काफी मशहूर है। वी. शांताराम की कालजयी फिल्म दो आंखें बारह हाथका भरत व्यास का लिखा और बसंत देसाई का संगीतबद्व उमड़ घुमड़ घिर आई रे घटाएक सिचुएशन आधारित बारिश गीत है जहां तक भाव प्रवणता की बात है तो फिल्म परख का गीत ओ सजना बरखा बहार आई, रस की फुहार आई, आंखियों में प्यार लाई भी बेहतरीन वर्षा गीत है। फिल्म अनजानामें राजेंद्र कुमार और बबीता पर फिल्माया रिमझिम के गीत सावन गाएको सुन कर श्रोता आज भी रोमांचित हो उठते हैं। फिल्म मंजिलके लिए लिखे योगेश के गीत रिमझिम गिरे सावनकी भी यही खासियत है। मुंबई की बारिश में आर.डी. बर्मन के दिलकश संगीत  पर  रिमझिम गिरे सावनगाते हुए अमिताभ बच्चन और मौसमी चटर्जी जिस तरह से चहलकदमी करते नजर आते हैं और बैकड्रॉप में मरीन ड्राइव का दृश्य लहराता दिखाई देता है, वह बहुत रोमांचक है। इनके अलावा राजेश खन्ना और जीनत अमान बॉलीवुड की प्रायोजित बारिश में छत पर फिल्म अजनबीके गीत भीगी भीगी रातों मेंके लिए भीगे थे, जिसे शक्ति सामंत ने फिल्माया था। गुलजार की फिल्म नमकीनमें उजाड़ और अकेली शबाना आजमी का गीत फिर से अइयो बदरा बिदेसीगुलजार के यादगार गीतों में से एक है।
रोटी कपड़ा और मकान:बरसात में प्रेम की उत्कट अभिव्यक्ति:जीनत अमान की यादगार अदा
दरअसल बरसात प्रेम के इजहार का प्रतीक होती है। बरसात खुशहाली का भी प्रतीक होती है। बरसात प्रकृति की बहार का भी प्रतीक होती है। लेकिन अब बरसात को सिल्वर स्क्रीन के लिए नॉस्टेल्जिया से कम नहीं।
सुनील दत्त, नूतन की फिल्म मिलन के इस गीत को भला कौन भूल सकता है- सावन का महीना पवन करे सोर...या फिर रोटी कपड़ा और मकान का वह गीत- हाय हाय ये मजबूरी...मौसम और ये दूरी...।
मिलन और विरह की तड़प लिये बरसात के ये गीत आज अमर हो चुके हैं। जब जब सावन के फिल्मी गीतों की चर्चा होगी, इन गीतों की बातें सबकी जुबां पर शुमार होंगी।
अमिताभ बच्चन और स्मिता पाटिल की फिल्म नमक हलाल का ये गीत-आज रपट जाये तो...आज भी कितना मशहूर है...या फिर चांदनी का वह गीत-लगी आज सावन की फिर से झड़ी है...आदि आदि..।

नमक हलाल: बरसात यानी प्रेम लीला का विशेष अवसर: अमिताभ, स्मिता की अदा
वास्तव में ये कुछ नजीर हैं। ऐसे कई गीत हैं जिनके जरिये अमुक फिल्म की, अमुक अभिनेता, अभिनेत्री की पहचान बनी है। बेताब फिल्म का गीत-बादल यूं गरजता है...हो या फिर ‘1942: ए लव स्टोरीका वर्षा गीत- रिमझिम रिमझिम…’। इस गीत में अनिल कपूर और मनीषा कोइराला के प्यार को विंटेज स्टाइल और ताजा बूंदों की धुन के साथ दिखाया गया है। सुधीर मिश्रा की फिल्म चमेलीका वर्षा गीत बहता है मन कहींभी दर्शकों और संगीत प्रेमियों पर अच्छा प्रभाव छोड़ता है। इसी तरह  ऐश्वर्या राय पर फिल्माए गए गुरुके बरसो रे मेघागीत को भी लोग लंबे समय तक याद रखेंगे। खास बात यह भी है कि इस गीत में आपको बारिश कहीं से भी बनावटी नजर नहीं आती है। पूरी तरह कुदरती बारिश में फिल्माए गए गुलजार के लिखे और ए.आर. रहमान के संगीतबद्ध इस गीत की ताल पर ऐश्वर्या भी डूबकर थिरकती हैं। हालांकि किसी किसी फिल्म में बरसात के नाम पर भोंडापन भी दिखा है। मसलन मोहराका टिप टिप बरसा पानीऐसे गीतों में शामिल हैं, जिनमें बारिश की बूंदों का उपयोग नायिका को भिगोने के लिए किया गया। लेकिन गुजरे जमाने की फिल्मों के वर्षा गीतों में ऐसी बात नहीं थी। काला बाजारका गीत रिमझिम के तराने लेके आई बरसातआज भी लोगों को याद है। विजय आनंद की फिल्म गाइडमें पूरा गांव वर्षा का इंतजार कर रहा है। सालों बाद आशुतोष गोवारीकर ने लगानमें भी वही प्रभाव पैदा किया, जिसमें पूरा गांव बारिश का जश्न मनाता है। फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगेमें काजोल पर फिल्माए गए मेरे ख्वाबों में जो आएऔर दिल तो पागल हैमें घोड़े जैसी चालजैसे गीतों के लफ्जों का बारिश से कोई सरोकार नहीं है, फिर भी इन गीतों में बारिश का उपयोग मस्ती भरा मूड बताने के लिए किया गया है।
चांदनी: बरसात में जिंदगी का भरपूर अहसास: श्रीदेवी की सबसे उत्कट अदा
कुछ फिल्मों के टाइटिल में भी बरसात शब्द को शामिल किया गया। मसलन
बरसातशीर्षक से दो फिल्में बनी हैं। इनमें से 1949 में प्रदर्शित फिल्म के नायक थे राज कपूर तो 1995 में आई बरसातके नायक थे बाबी देओल। इसी तरह 1960 में रिलीज हुई भारत भूषण-मधुबाला की फिल्म बरसात की रात’, तो 1981 में शक्ति सामंत भी लेकर आए बरसात की एक रात। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और राखी ने मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं।             
लेकिन सवाल यह है कि राज कपूर की फिल्म से वर्षा गीतों का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह मणिरत्नम की फिल्म गुरुतक ही क्यों जारी रहा?

गुरु: असली बरसात के अंतिम दृश्य: ऐश्वर्या राय का वर्षा नृत्य
क्या बदलते पर्यावरण का असर सिल्वर स्क्रीन पर भी पड़ा है? प्रकृति की बजाय यहां सबकुछ ग्राफिक्स की दुनिया की सर्वोपरि हो गई है। वास्तविक दुनिया में भी आज वैसी बरसात नहीं होती जैसी कि गुजरे जमाने में होती थी। तो इसका मतलब यह हुआ कि जिस तरह सिनेमा से हरियाली गायब हुई तो बरसात भी अपने आप ही चली गई। और वर्षा के गीत शॉवर के नीचे गुनगुनाते बाथरूम सिंगिंग तक सिमट गये।   
(इस लेख को कहीं भी प्रकाशित करने के लिए पूर्वानुमति आवश्यक है।)
000
कुछ यादगार वर्षा गीत
* सावन के बादलो (रतन)
* बरसात में हमसे मिले तुम सजन (बरसात)
* प्यार हुआ, इकरार हुआ (श्री 420)
* इक लडक़ी भीगी-भागी-सी (चलती का नाम गाड़ी)
* ओ सजना बरखा बहार आई (परख)
* रिमझिम के तराने लेकर आई बरसात (काला बाजार)
* जिंदगीभर नहीं भूलेगी वो बरसात की रात (बरसात की रात)
* काली घटा छाए मेरा जिया तरसाये (सुजाता)
* उमड़ घुमड़ घिर आई रे घटा (दो आंखें बारह हाथ)
* छाई बरखा बहार पड़े अंगना फुहार (चिराग)
* सावन की रातों में (प्रेमपत्र)
* बदरा छाये कि झूले पड़ गए (आया सावन झूम के)
* रिमझिम के गीत सावन गाए (अनजाना)
* पानी रे पानी तेरा रंग कैसा (शोर)
* रूप तेरा मस्ताना (आराधना)
* हाय हाय ये मजबूरी (रोटी कपड़ा और मकान)
* कुछ कहता है ये सावन/ मेरा गांव मेरा देश
* रिमझिम गिरे सावन (मंजिल)
* ये मौसम भीगा भीगा हवा भी ताजा ताजा है (धरती)
* जलता है जिया मेरा भीगी भीगी रातों में (जख्मी)
* आज रपट जाएँ (नमक हलाल)
* काटे नहीं कटते (मि. इण्डिया)
* अब के बरस यूँ बरस (आग और शोला)
* मेघा रे मेघा रे (प्यासा सावन)
* लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है (चाँदनी)
* रिमझिम-रिमझिम (1942 -ए लव स्टोरी)
* टिप-टिप बरसा पानी (मोहरा)
* बादल क्यों गरजता है (बेताब)
* घोड़े जैसी चाल (दिल तो पागल है)
* आंखों से तूने ये क्या कह दिया/ गुलाम
* घनन-घनन घन घिर आए बदरा (लगान)
* बहता है मन कहीं (चमेली)
* बूंदों से बातें (तक्षक)
* साँसों को साँसों से (हम तुम)
* देखो ना (फना)
* बरसो रे मेघा (गुरु)

00
बागी:जब आसमान से बरसा बाथरूम का शॉवर: टाइगर व श्रद्धा यानी बारिश के आखिरी सितारे  
सभी फोटो-नेट से साभार

1 टिप्पणी:

  1. रणवीर सिंह का नया वीडियो खून भरी मांग उनके साथ हीरोइन हैं फराह खान
    गोविंदा के इल्‍जामों पर वरुण धवन ने साधी चुप्‍पी कहा मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा है
    मामी ने दिखाया स्वर्ग का दरवाजा (Mammi Ne Dikhaya Swarga Ka Darwaja)
    देश के सबसे अमीर अंबानी परिवार के बारे में ये सब नहीं जानते होंगे आप
    इस महाराजा ने बनाया था क्रिकेट और पटियाला पैग का अनोखा कॉकटेल
    आखिर क्यों ये लड़की रोज लगाती है शमशान घाट के चक्कर
    शादी से एक सप्ताह पहले मां बेटे के कमरे में गई तो पैरों तले खिसक गई जमीन
    Antarvasna युवकों की आम यौन समस्यायें
    इस तरह के कपड़े पहनना दरिद्रता को न्योता देता है
    सलमान की खास दोस्त यूलिया ने किया एक और गाना रिकॉर्ड
    वैलेंटाइन डे पर बेडरूम में बस रखें ये खास चीज और फिर देखें कमाल

    उत्तर देंहटाएं

Post Bottom Ad