सुनो सुनो सुनो! 1 दिसंबर को रानी 'पद्मावती' सिल्वर स्क्रीन पर पधार रही हैं! - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

गुरुवार, 21 सितंबर 2017

सुनो सुनो सुनो! 1 दिसंबर को रानी 'पद्मावती' सिल्वर स्क्रीन पर पधार रही हैं!

वह पदमिनि चितउर जो आनी । काया कुंदन द्वादसबानी ॥कुंदन कनक ताहि नहिं बासा । वह सुगंध जस कँवल बिगासा ॥कुंदन कनक कठोर सो अंगा । वह कोमल, रँग पुहुप सुरंगा ॥

(जायसी की पद्मावत से)

सावधान, मेहरबान, दीपिका पादुकोण के कद्रदान हिन्दुस्तान ही नहीं सुन लो पूरी दुनिया जहान, 1 दिसंबर को महारानी पदमावती सिल्वर स्क्रीन पर पधार रही हैं।


जी हां, सही समझे आप। संजय लीला भंसाली की अतिप्रतिक्षित फिल्म पदमावती की रिलीज की तारीख ही तय नहीं हुई बल्कि देवी स्थापना के शुभ मुहूर्त पर पदमावती का फर्स्ट लुक भी जारी कर दिया गया। फिल्म के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से फिल्म का पहला पोस्टर जारी किया गया जिसमें दीपिका पादुकोण हाथ जोड़े दिखाई दे रही हैं। राजस्थानी पारंपरिक गहनों से लदी दीपिका अत्यंत खूबसूरत भी लग रही हैं और मानों मोनालिसाई मुस्कान बिखेर रही हैं। पोस्टर के नीचे लिखा गया है-देवी स्थापना के शुभ अवसर पर मिलिये रानी पद्मावती से। इसी पोस्टर से जानाकारी सामने आई कि फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज हो रही है। हालांकि अंदाजा लगाया जा रहा था कि फिल्म की शूटिंग्स में बारंबार व्यवधान के चलते फिल्म रिलीज में देरी हो सकती है।

पोस्टर में दीपिका का सौन्दर्य देखते ही बनता है। कवि मलिक मोहम्मद जायसी की पदमावत को जिन्होंने भी पढ़ा है उन्हें उनके द्वारा रचित पदमावती के नखशिख वर्णन का स्मरण जरूर होगा। जायसी ने एक जगह लिखा है--

बेनी छोरि झार जौ केसा । रैनि होइ ,जग दीपक लेसा ॥
सिर हुत बिसहर परे भुइँ बारा । सगरौं देस भएउ अँधियारा ॥

यानी रानी जब केश खोल कर कंघा करती है तो चारों तरफ अंधेरा छा जाता था। क्योंकि बालों के लटकने से उसका चेहरा ढंक जाता है और वहां व्याप्त उजाले का स्रोत खत्म हो जाता था।

जायसी के वर्णन का एक उद्धरण देखिये

माँग जो मानिक सेंदुर-रेखा । जनु बसंत राता जग देखा ॥
कै पत्रावलि पाटी पारी । औ रुचि चित्र बिचित्र सँवारी 


पोस्टर में दीपिका पादुकोण की उस ऐतिहासिक पदमावती से मिलान करने का प्रयास किया है। पोस्टर देखकर लगता फिल्म में दीपिका का भी उसी प्रकार नख से शिख यानी हेड टू टो (Head to toe) श्रृंगार भी किया गया है। आंखों में सूझ बूझ की गहराई, चेहरे पर आत्मविश्वास का तेज-दीपिका के फिल्मी कैरियर का यह सबसे अनोखा किरदार है।
गौरतलब है कि इससे पहले दीपिका संजय लीला भंसाली की फिल्म बाजीराव मस्तानी में ऐतिहासिक किरदार का भलीभांति निर्वहन कर चुकी थी लेकिन यह फिल्म पूरी तरह से उसकी है। उसके केंद्रीय पात्र की है। रानी पद्मावती जितना अपने सौन्दर्य के लिए विख्यात थीं उतना ही अपने शौर्य और प्रराक्रम के लिए भी। सुंदरता और वीरता की इस अदभुत संगम लहरियों को अपने अभिनय में समान रूप से उतारना आसान नहीं। फिल्म देखना वाकई दिलचस्प होगा कि दीपिका पादुकोण ने इस किरदार के साथ कितना न्याय किया है।
मस्तानी बनने के बाद पदमावती की अदाएं लोग देखने के लिए बेकरार हैं।
फिल्म के आधिकारी ट्विटर हैंडल के अलावा अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और फिल्म के अभिनेता रणवीर सिंह ने भी अपने – अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फिल्म का पोस्टर जारी किया है और फिल्म के प्रचार-प्रसार में अपना सहयोग किया है।
गौरतलब है कि पिछले दिनों जयपुर और कोल्हापुर में फिल्म की शूटिंग्स के दौरान राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं द्वारा टीम पर हमले के बाद फिल्म विवादों में घिर गई थी। अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के कल्पनाशील मिलन दृश्यों को लेकर विवाद हो गया था। फिल्मोद्योग के तमाम जाने-माने कलाकारों और निर्माताओं-निर्देशकों ने शूटिंग्स टीम के ऊपर हमले की कड़ी निंदा की थी। खुद संजय लीला भंसाली भी हमले के शिकार हुये थे। भंसाली ने बाकायदा पत्र जारी कर इस हमले की निंदा की थी।  
आपको बता दें कि इस फिल्म में शाहिद कपूर रावल रतन सिंह और रणवीर सिंह अलाउद्दीन खिलजी की भूमिका निभा रहे हैं।
1 दिसंबर को रिलीज होते ही अगर यह फिल्म लोगों को पहले हफ्ते में पसंद आ गई तो साल के अंत तक और नये साल के शुरुआती दिनों तक चर्चा बटोरती रह सकती है। 
-संजीव श्रीवास्तव (Contact - Email: pictureplus2016@gmail.com)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad