‘जुड़वां 2’ मतलब दो-दो धवन का डबल धमाल - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

‘जुड़वां 2’ मतलब दो-दो धवन का डबल धमाल

रिपीट सीन के बावजूद 20 साल बाद भी डेविड धवन का जादू है बरकरार
फिल्म-जुड़वां 2
निर्देशक- डेविड धवन
सितारे : वरुण धवन, तापसी पन्नू, जैकलीन फर्नांडिस,
अनुपम खेर, प्राची देसाई, राजपाल यादव, सचिन खेडेकर
पिक्चर प्लस रेटिंग-3.5 

बड़े पर्दे पर कॉमेडी कॉकटेल
बीस साल पहले सन् 1997 की फिल्म जुड़वां में सलमान खान डबल रोल में थे तो 2017 की जुड़वां 2 में डेविड धवन का बेटा वरुण धवन। दोनों फिल्म में अंतर केवल इतना ही है। बाकी, डांस, मस्ती, हंसी मजाक, एक्शन, इमोशन और ड्रामा के सीक्वेंस कमोबेश वही हैं।
एक की पिटाई होती है तो दूसरा कराहता है, एक अपनी प्रेमिका को चूमता है तो दूसरा भी अपनी प्रेमिका को चूमने लगता है। यानी ऐसे कई दृश्य हैं जो पहले वाली जुड़वां के मुकाबले समानता लिये हुये हैं। इसके वावजूद जुड़वां 2 में दर्शक बोर नहीं होते। डेविड धवन की फिल्म शुद्ध मनोरंजन के लिए होती है, उसकी कहानी का सिर-पैर या उस कहानी का कोई आशय ढ़ूंढ़ना बेवजह का सिर खपाना है। कहानी में कहीं का रोड़ा कहीं का पत्थर देख सकते हैं। किसी भी का कोई तर्क नहीं होता। इसके बावजूद दर्शक डेविड धवन की फिल्मों को देखने के लिए दर्शक टिकट खिड़की पर टूटते रहे हैं तो केवल इसलिये कि यहां हंसने-हंसाने का भरपूर डोज होता है। यह तब से है जब वो गोविंदा और सलमान खान के साथ उन्होंने 'कुली नंबर वन', 'बीवी नंबर वन', 'जोड़ी नंबर वन', 'घरवाली बाहर वाली' आदि जैसी टिकट खिड़कीतोड़ हिट फिल्में दी हैं। लेकिन जब अपना बेटा ही हीरो बनने लायक हो गया तो हो गया न दो-दो धवन का धमाल!

कॉमेडी के साथ ग्लैमर की रेसिपी

जी हां, जुड़वां 2 मतलब धवन का डबल धमाल।

फिल्म की शुरुआत में दो जुड़वा भाई पैदा होते ही बिछड़ जाते हैं। बॉलीवुडिया सिनेमा का यह फार्मूला काफी पुराना है। जिसमें एक तेज तर्रार होता है तो दूसरा धीमा। एक अवारा तो दूसरा शरीफ। फिल्म की शुरुआत में ही साफ कर दिया गया है कि दोनों भाई के एक-दूसरे के नजदीक होने पर एक रोएगा तो दूसरा भी रोएगा। एक हंसेगा तो दूसरा भी हंसेगा। लंदन और मुंबई में लंबी दूरी है लिहाजा यह कनेक्शन यहां तो काम नहीं करता, लेकिन जब राजा लंदन पहुंच जाता है तो यह कनेक्शन नजर आने लगता है। एक अपनी प्रेमिका को चूमता है तो दूसरा भी चूम लेता है।
राजा और प्रेम दोनों एक जैसे हैं इसलिये कन्फ्यूजन का रोमांच भी है। रोमांस के लिए दो लड़कियां हैं समायरा यानी तापसी पन्नू और अलिष्का यानी जैकलीन फर्नांडीस। दोनों के ग्लैमर का भरपूर इस्तेमाल किया गया है। पिंक फेम तापसी पन्नू में संभावनाएं नजर आती हैं।  

नाच-गाने का तड़का मजेदार
वरुण धवन की कॉमेडी करने की टाइमिंग अच्छी है।  डांस, मारपीट, इमोशन आदि उनके एक्ट में एनर्जी हैं। पूरी फिल्म में वरुण धवन ही छाया हुआ है, हीरोइनें ग्लैमर गुड़िया के तौर नजर आती हैं। प्रेम और राजा दोनों किरदारों में वरुण राजा के रूप में ज्यादा अच्छा लगा है। फिल्म के अंत में रेफ्रेंस कट की तरह सलमान खान अपने जुड़वां अंदाज में नज़र आते हैं और खुद को ओरिजन जुड़वां बताते हैं। यह फिल्म का एक कॉमिक पार्ट है। संगीत के नाम पर शोर वाला बैकग्राउंड स्कोर तो है लेकिन गीत के नाम पर कुछ भी याद रखने लायक नहीं है। कुल मिलाकर इन छुट्टियों में महज टाइम पास के लिए यह फिल्म बुरी नहीं है।
पिक्चर प्लस समीक्षक (Emal:pictureplus2016@gmail.com)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad