अ‍जीब TRP है ये...! - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

सोमवार, 18 सितंबर 2017

अ‍जीब TRP है ये...!

ये कब गिरी, ये कब उठी, ना तुम समझ सको, ना हम...

KBC : यानी अब लाईन में सबसे आगे
टेलीविजन में ये टीआरपी का खेल बड़ा अजीब है। हम जिस प्रोग्राम को हिट समझ रहे होते है, उसकी जगह कब, कोई और प्रोग्राम कैसे इस लिस्ट में जगह बना लेता है, समझना मुश्किल है। इस हफ्ते की टीआरपी लिस्ट में KBC तो टॉप पर पहुंच गई है, भाई हो भी क्यों न! अमिताभ बच्चन से ही तो हर लाईन शुरू होती है। खैर, तो लिस्ट में आगे है, खतरों के खिलाडी, कुमकुम भाग्य, तारक मेहता, लिटिल चैम्प, फिर से भाग्य, महाकाली, ये रिश्ता और डांस । अब आप कहेंगे कि शनि कहां चला गया, मोहब्बतें भी नहीं है, चंद्रकांता का नाम आना चाहिये, शक्ति को तो इतने लोग देखते हैं, और उड़ान, उसको भी शामिल करो।
बस्स्स्स, तो भैय्या, ये टीआरपी का खेल दर्शकों के लिये कोई मायने नहीं रखता। आपको जान कर ताज्जुब होगा कि गांवों में (टीआरपी के लिहाज से देश के 26 शहर ही शहर आते है, और बाक़ी शहर गांव हैं) जो तादाद में बहुत ज्यादा है। वहां, जो टीवी चैनेल देखे जाते हैं, वो हैं, ज़ी अनमोल, स्टार भारत, रिश्ते, सोनी पल, डीडी नेशनल, बिग मैजिक जैसे चैनेल। जिनपर मीडिया कभी ध्यान नहीं देती। उसे नेशनल चैनल नहीं मानती। उनके दिमाग में शायद रूरल इंडिया, कोई महत्व नहीं रखता।
'खतरों के खिलाड़ी' को भी जोरदार टक्कर 
इस हिसाब से, ये कैसे तय हो पायेगा कि कौन सा प्रोग्राम ज्यादा देखा जाता है और कौन सा नहीं। देखिये, ये भी अजीब बात है कि लाईफ़ ओके का नाम बदल कर स्टार भारत कर दिया और उसे एक नये चैनल की तरह दिखा रहे हैं। लेकिन इस पर भी सावधान इंडिया ही चल रहा है। ये बिलकुल ऐसे ही हो गया कि, पुराना खाता बंद किया और उसे NPA घोषित करके, पुराने माल के सहारे नये मार्केट में कूद गये। अगर लाईफ़ ओके नाम के साथ ही नये प्रोग्राम लाते, तो क्या फर्क पड़ता? लेकिन पड़ता, केवल सावधान इंडिया के आधार पर ये टीआरपी के रेस में बाहर थे। और सिर्फ़ तथाकथित गावों में देखे जाते थे, तो अब उसे टीआरपी में लाने के लिये, शहरों में नये नाम से लाना पड़ा।
टीआरपी की दौड़ में शामिल सीरियलों को देखें, तो ऐसा लगता है चाहे आपके पास कंटेंट ना हो, और एक शाम की कहानी को दो-दो हफ्ते तक खींचा जाये, पर टीआरपी रेटिंग दिखा कर सबका मुंह बंद कर दिया जाता है। हैं ना आजीब बात! जय हो टीवी मैय्या की।
-गौतम सिद्धार्थ
(लेखक स्क्रीन राइटर और टीवी माध्यम के विशेषज्ञ हैं। मुंबई में निवास।  
Email : pictureplus2016@gmail.com)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad