वकील राम जेठमलानी का किरदार निभायेंगे अमिताभ बच्चन? - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

वकील राम जेठमलानी का किरदार निभायेंगे अमिताभ बच्चन?

फिल्म में विवादित केसों को नहीं,
एक व्यक्ति की सक्सेस स्टोरी दिखाने की होगी कोशिश


'पिंक' में वकील की भूमिका में अमिताभ बच्चन की हुई थी खूब प्रशंसा

चौरानवे साल के देश के सबसे मशहूर वकील राम जेठमलानी संभवत: भले ही कोर्ट में जिरह करते हुये नहीं दिखाई दें लेकिन रुपहले पर्दे पर संभव है कि अमिताभ बच्चन उनके किरदार को निभाते हुये जरूर दिख जायें। जी हां, बॉलीवुड के गलियारों से हमारे फिल्मी घुमक्कड़ ने जो खबरों की खाक छानी है उसके मुताबिक अमिताभ बच्चन से राम जेठमलानी पर बनने जा रही बायोपिक फिल्म में किरदार निभाने के लिए संपर्क किया गया है। यह फिल्म रोनी स्क्रूवाला बनाने जा रहे हैं जिन्होंने फिजां, लक्ष्य, रंग दे बसंती, पान सिंह तोमर, सत्याग्रह और चेन्नई एक्सप्रेस जैसी कई बड़ी फिल्में प्रोड्यूस की हैं। यह फिल्म सुसान एडेलमैन द्वारा लिखित पुस्तक पर आधारित होगी, जिसका नाम 'द रीबेल' है जो कि वकील राम जेठमलानी की जीवनी है।

रोनी स्क्रूवाला : फिल्म निर्माता
हालांकि फिलहाल यह तय नहीं हो सका है कि इस फिल्म का निर्देशन कौन करेंगे। लेकिन फिलहाल एक नाम सामने आ रहा है वह है-राजकुमार गुप्ता का, जिन्होंने नो वंस किल्ड जेसिकाबनाकर प्रसिद्धि बटोरी थी। वैसे ऐसा भी सुनने में आ रहा है कि रोनी इस फिल्म को बिग बजट नहीं बनाना चाहते। वह एक ऐसे शख्स की कहानी कहना चाहते हैं जिसने विभाजन के बाद भारत में रहकर अपने जीवनयापन के लिए कैसे कानून का पेशा चुना। और आगे चलकर उसका प्रोफेसनल जीवन तमाम लोगों के लिए प्रेरणादायक बन गया। वास्तव में यह एक सक्सेस स्टोरी कहने की कोशिश होगी।
राम जेठमलानी के बायोपिक में काम करने को लेकर अमिताभ बच्चन की तरफ से अभी कोई सहमति मिली  है या नहीं, इस बारे में फिलहाल कुछ भी खुलासा नहीं हुआ है। लेकिन बॉलीवुड की गलियों में यह चर्चा शुमार होने लगी है कि अमिताभ बच्चन ही इस किरदार के लिए सबसे परफेक्ट हो सकते हैं। क्योंकि राम जेठमलानी के किरदार को वही अभिनेता बखूबी निभा सकता है जो एक तो उम्रदराज हो दूसरे कि जिसके अभिनय में इंटेलिजेंट लुक की स्पार्किंग भी हो। इस पैमाने पर अमिताभ बच्चन या नसीरुद्दीन शाह जैसे अभिनेताओं के अलावा बहुत कम कलाकार परफेक्ट प्रतीत होते हैं। अमिताभ बच्चन हाल ही में पिंक फिल्म में एक प्रभावशाली वकील की भूमिका निभा चुके हैं।  
क्योंकि राम जेठमलानी आखिर क्यों सबसे महंगे, बहुचर्चित तथा बहुविवादित वकील कहे जाते रहे हैं?उसके बारे में यहां जान लेना भी जरूरी है। उनके कुछ बहुचर्चित केस निम्न प्रकार हैं--
मशहूर वकील राम जेठमलानी

-जेठमलानी देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्‍यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह का बचाव कर चुके हैं। सतवंत सिंह और केहर सिंह दोनों ही पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के अंगरक्षक थे। राम जेठमलानी ने दोनों को बचाने के लिए केस लड़ा था। हालांकि उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी।  
-जेठमलानी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्‍यारे वी श्रीहरन उर्फ मुरुगन की भी पैरवी कर चुके हैं। यह केस मद्रास हाईकोर्ट में चला था। आरोपियों की ओर से वकील के तौर पर पैरवी करते हुए जेठमलानी ने फांसी की सजा को उम्रक़ैद में तब्दील कराया।
-हवाला स्कैम में कई बड़े नेताओं और अधिकारियों पर पैसे लेने के आरोप लगा था। बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणीर भी आरोप लगा था। जेठमलानी ने आडवाणी की ओर से उनका केस लड़ा था। साल 2015 में जेठमलानी ने कहा था कि आडवाणी उनकी वजह से ही हवाला केस जीते थे।
-जेठमलानी ने 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाला मामले में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद की पैरवी की थी।
-जेठमलानी आय से अधिक संपत्ति मामले में तमिलनाडु की पूर्व मुख्‍यमंत्री जयललिता के वकील भी थे।
-यूपीए 2 के कार्यकाल में 2जी घोटाला सामने आया था। जेठमलानी ने आरोपी और डीएमके नेता करुणानिधि की बेटी कनिमोझी के बचाव में पैरवी की। 2जी का मामला अदालत में जारी है।
-जेठमलानी ने अवैध खनन घोटाले के मामले में कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा समेत 12 अन्‍य आरोपियों की पैरवी की थी। यह मामला सीबीआई की ओर से दर्ज किया गया था। 
-केएम नानावटी बनाम महाराष्ट्र केस बेहद चर्चित मामला है। नानावटी नेवी अफसर थे, जिन्होंने अपनी पत्नी के प्रेमी को गोली मार दी थी। उन्होंने खुद सरेंडर कर अपना अपराध भी स्वीकार कर लिया था। वे तीन साल जेल में रहे। जेठमलानी ने उनका केस लड़ा और उन्हें रिहा करा लिया था। आपको बता दें कि इसी विषय पर 'रुस्‍तम' फिल्म बन चुकी है, जिसमें अक्षय कुमार ने भूमिका निभाई थी।
-तस्‍करी के एक मामले में मुंबई के अंडरवर्ल्‍ड डॉन हाजी मस्‍तान को बचाने के लिए जेठमलानी ने पैरवी की थी। फिल्‍म 'वन्‍स अपॉन ए टाइम न इन मुंबई' हाजी मस्‍तान के जीवन के आधार पर बनी थी। 
-जेठमलानी ने शाहबुद्दीन और तुलसीराम प्रजापति के फर्जी एनकाउंटर मामले में गुजरात के तत्‍कालीन गृहमंत्री और वर्तमान में बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह की पैरवी की थी।
-संसद पर हमले के आरोपी कश्मीरी आतंकी अफजल गुरु के मामले में भी जेठमलानी ने पैरवी की थी। अफजल को अदालत ने फांसी की सजा दी थी जिसके खिलाफ जेठमलानी ने केस लड़ा लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली।
-यौन उत्पीड़न के अलग-अलग मामलों में आसाराम बापू जेल में बंद हैं, उनके बचाव में जेठमलानी केस लड़ चुके हैं। आसाराम का मामला अदालत में चल रहा है।
-हाई प्रोफाइल जेसिका लाल मर्डर केस में जेठमलानी ने हत्या के आरोपी मनु शर्मा का अदालत में बचाव किया था।
-जेठमलानी अदालत में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का भी बचाव कर चुके हैं। दरअसल, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने मुख्‍यमंत्री केजरीवाल के खिलाफ  मानहानि का मुकदमा दायर किया था। पहले तो जेठमलानी ने कहा था कि वो नि:शुल्क केस लड़ेंगे लेकिन बाद में उन्‍होंने 3.42 करोड़ रुपये की फीस मांगी।


क्या नसीरुद्दीन शाह भी राम जेठमलानी के किरदार के लिए परफेक्ट हो सकते हैं?

वाकई इतने विवादित केस को लड़ने वाला, कभी कामयाबी तो कभी नाकामयाबी हासिल करने वाले उस किरदार को पर्दे पर जीवंत करना बेहद दुरुह टास्क होगा। देखना दिलचस्प होगा कि अमिताभ बच्चन या कोई और कलाकार आखिर कैसे इस जटिल किरदार को पर्दे पर जीवंत बनाते हैं?
मुंबई से फिल्मी घुमक्कड़ की रिपोर्ट के साथ पिक्चर प्लस ब्यूरो 
(Email: pictureplus2016@gmail.com)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad