नये साल के जश्न के बाद भी मनोरंजन का भरपूर डोज देता रहेगा ‘टाइगर...’ - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

शुक्रवार, 22 दिसंबर 2017

नये साल के जश्न के बाद भी मनोरंजन का भरपूर डोज देता रहेगा ‘टाइगर...’

फिल्म-टाइगर जिंदा है
निर्देशक-अली अब्बास जफर
मुख्य सितारे-सलमान खान, कैटरीना कैफ
पिक्चर प्लस रेटिंग-3.5
 
फिल्म को ब्लॉकबस्टर बनाने के लिए सारे मसाले हैं मौजूद


सलमान खान के लिए टाइगर शब्द उचित ही है। सलमान का हर अपीयरेंस टाइगर के समान ही होता है। रोमांस, एक्शन, कॉमेडी-सबमें एग्रेसन...और यही एग्रेसन सलमान की पहचान है। सलमान की बीकनेस दर्शकों को पसंद नहीं। इसीलिये ट्यूबलाइट फ्लॉप हो गई है। लेकिन टाइगर जिंदा है-एक बार फिर सलमान की ताकत का अहसास करा रही है।
फिल्म को ब्लॉकबस्टर बनाने के लिए इसमें सारे मसाले और सिचुएशन भी मौजूद हैं। फिल्म में भारत-पाकिस्तान है, आतंकवाद है, रॉ है, अली अब्बास जाफर है, देशभक्ति दिखाने का प्रयास है और हैरतअंगेज स्टंट के साथ सलमान संग कैटरीना का रोमांस है-दर्शकों को इन छुट्टियों में इससे ज्यादा और क्या चाहिये। इसके अलावा नये साल के पहले दो हफ्ते में भी कोई ऐसी बड़ी फिल्म नहीं जो टाइगर से टक्कर दे सके तो साफ है कि टाइगर जिंदा है - दंगल की तर्ज पर साल के अंत में रिलीज होकर अगले साल भी चर्चा में शुमार करने वाली है।
'टाइगर जिंदा है' की शुरुआत वहीं से शुरू होती है, जहां 2012 की फिल्म 'एक था टाइगर' खत्म हुई थी। रॉ अपने सुपरहीरो (यानी टाइगर) की तलाश कर रहा है क्योंकि एक बार फिर से हालात बेकाबू हो गये हैं। इराक में 40 नर्सें, जिनमें 25 भारतीय और 15 पाकिस्तानी हैं, जिन्हें आतंकवादियों से मुकाबला करते हुये आजाद कराना है। इसी काम के लिए आता है टाइगर, जो सबको आतंक के चंगुल से छुड़ा लेता है। इतनी सी कहानी को भी अली अब्बास जफर ने बहुत खूबसूरती से बांध कर रखा है। प्लॉट में खतरनाक आतंकवादी संगठन, सलमान-कटरीना का रोमांस और भारत-पाकिस्तान के रिश्ते का वॉटरमार्क 'टाइगर जिंदा है' लोकप्रिय बनाने के लिए काफी है।


फिल्म की स्क्रीप्ट, निर्देशन, एक्शन पर खूब मेहनत की गई है। सलमान अपनी हाल की फिल्मों में सुपरहीरो की जिस छवि को लेकर मशहूर हुये हैं, वह शैली इस फिल्म में भी मौजूद है।
फिल्म में शुरू से अंत तक सलमान का छाये रहना–सलमान की फिल्मों की पहचान बन गई है। टाइगर जिंदा है- में भी सलमान का यही रुतबा नजर आता है। कैटरीना महज रोमांस, गीत और एक्शन में मसाला फ्लेवर पैदा करने के लिए नजर आती है। यों सलमान के साथ कैटरीना वैसे भी एक दर्शनीय खबर और तस्वीर होती है।
यही दर्शनीयता और भव्यता इस फिल्म की यूएसपी भी है। बेहतरीन सिनेमैटोग्राफी और सुपर एक्शन के साथ सलमान और कैटरीना के गीत और रोमांस को देखना चाहें तो छुट्टियों के इस मौसम में भरपूर मनोरंजन देने के लिए यह फिल्म सबसे बेहतर विकल्प है।
-कल्पना कुमारी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad