पत्नी की बेवफाई ने एक पति को बना दिया ब्लैकमेलर वर्ना... - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

शनिवार, 7 अप्रैल 2018

पत्नी की बेवफाई ने एक पति को बना दिया ब्लैकमेलर वर्ना...


फिल्म समीक्षा
टाइटल - ब्लैकमेल
निर्देशक- अभिनय देव
सितारे - इरफान खान, कीर्ति कुल्हारी, दिव्या दत्ता, अरुणोदय सिंह, ओमी वैद्य, गजरात राव, उर्मिला मातोंडकर


*रवींद्र त्रिपाठी
कुछ साल पहले जब अभिनय देव ने `डेल्ही बेली का निर्देशन किया था तो उसे एक काला हास्य यानी ब्लैक ह्यूमर के रूप में सराहा गया था। यानी ऐसी हास्य फिल्म जिसमें हंसी के लिए कुछ विचित्र और अपारंपरिक तरीके इस्तेमाल किये जाते हों। उनकी नई फिल्म भी उसी शैली की है। सोचिए न, किसी और फिल्म में ऐसा हो सकता है कि कोई पति अपनी पत्नी को खुश करने के लिए गुलदस्ता देना चाहे तो उसे कब्रिस्तान से चुराए? `ब्लैकमेल में ऐसा होता है क्योंकि शहर में बाजार बंद हो चुका है और पत्नी को खुश करने के लिए गुलदस्ता देने के लिए  कोई और रास्ता नही हैं। हास्य पैदा करने के और कई अपारंपरिक तरीके इस फिल्म में हैं।
`ब्लैकमेल कॉमेडी है। लेकिन साथ ही ये थ्रिलर भी हैं और इसमें तीन हत्याएं भी होती हैं। ये देव (इरफान खान) नाम के एक ऐसे व्यक्ति के इर्द-गिर्द घूमती है जो टॉयलेट पेपर बनाने वाली एक कंपनी में काम करता है। देव एक आम आदमी है और अपने बॉस (ओमी वैद्य) के अजीबोगरीब सनक के मुताबिक काम करने को बाध्य है। उसकी निजी जिंदगी भी रसमय नहीं हैं। एक दिन वह पाता है उसकी पत्नी रीना  (कीर्ति कुल्हारी) रंजीत (अरुणोदय सिंह) नाम के एक  शख्स के इश्क कर रही है। साधारण आदमी तो ये देखकर गुस्से से पागल जाएगा या किसी का खून कर देगा। लेकिन देव ऐसा नहीं करता। वह अपनी पत्नी के प्रेमी से ब्लैकमेल करना शुरू करता है। और इसके बाद कई लोग एक दूसरे से ब्लैकमेल ब्लैकमेल खेलने लगते है। रंजीत अपनी प्रेमिका यानी रीना से ही ब्लैकमेल करने लगता है। उधर देव के ऑफिस के दो लोग उससे यानी देव से ही ब्लैकमेल करने की कोशिश करते है। ब्लैकमेल से मिलने वाले पैसे की चोरी भी होने लगती है। इनमें से एक  शख्स ब्लैकमेलर को पकड़ने के लिए एक निजी जासूस की सेवाएं लेता है। आगे चलकर मालूम होता है कि वह निजी जासूस खुद ही ब्लैकमेलर है और हथियारों का सप्लायर भी।
`ब्लैकमेलमें बड़े सूक्ष्म तरीके से समाज पर टिप्पणी भी है। लेकिन मजाकिया अंदाज में। कैसे एक शख्स हालात के दबाव में अपराध की तरफ जाता है। लेकिन साधारण आदमी अपराध भी करता है बहुत जल्द उसमें फंस भी जाता है। जैसा देव  के साथ होता है। देव एक आम आदमी है। लेकिन बीवी की बेवफाई उसे एक छोटा- मोटा अपराधी बना देती है। इरफान ने अपनी जिंदगी का एक और शानदार अभिनय किया है। बिना चुटकुलेबाज हुए वे हास्य पैदा करते देते हैं। और उनके साथ अरुणोदय सिंह ने भी बहुत अच्छा काम है। उनके चरित्र में दोनों चीजें हैं। थोड़ी सी खलनायकी और थोड़ा सा मसखरापन। कीर्ति कुल्हारी के पास करने के लिए कुछ खास नहीं है, सिवा एक बेवफा बीवी का किरदार नभाने के। दिव्या दत्ता की भूमिका रंजीत की पत्नी के रूप में छोटी है, पर जितनी देर की है असरदार है। एक निजी जासूस के रूप में गजराज राव ने भी अच्छी भूमिका निभाई है। पर साथ मे ये भी जोड़ना पड़ेगा कि चावला नाम के जिस शख्स के इर्द गिर्द इस जासूसी किरदार को बुना गया है उसमें एक खास तरह का निर्देशकीय कौशल है। गजराज राव के इस आशय कई संवाद हैं कि `चावला ये कम करा देगा’,` चावला  हथियार भी बेचता है, पर चावला कौन है ये साफ नहीं होता। हालांकि दर्शकों को लगता है कि चावला वही यानी गजराज है। बेशक ये निर्देशक का दिमाग है जो साधारण किरदार को भी थोड़ा रहस्यमय बना देता है।


फिल्म में उर्मिला मातोंडकर को पर एक आईटम नंबर भी फिल्माया गया है। इसी बहाने उर्मिला का डूबता फिल्मी कैरियर थोड़े दिनों के लिए बच गया है। कह सकते हैं कि डूबते को आईटम नंबर का सहारा।
`ब्लैकमेल एक बदलते वक्त की कॉमेडी है जो बेवफाई के माहौल में रची गई है। इस तरह की सोच पहले मुश्किल थी कि कोई पत्नी अपनी बेवफा बीवी के आशिक को ब्लैकमेल करेगा या ऑफिस की कोई लड़की अपने सहकर्मी को ब्लैकमेल करने का प्रयास करेगी। लड़कों के साथ लड़कियां भी ब्लैकमेलर हो सकती है इस तरह की कल्पना कुछ समय पहले तक के भारतीय समाज में कठिन थी। लेकिन जिस तरीके से जमाना बदल रहा है उसमें अपराध और अपराधी के अंदाज भी बदल रहे हैं। कौन कब मौका मिलते अपराध की तरफ चल पड़े, कह नहीं सकते। `ब्लैकमेल इधर भी संकेत करती है।
*(लेखक प्रख्यात कला मर्मज्ञ और फिल्म समीक्षक हैं। दिल्ली में निवास।
संपर्क-9873196343)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad