2018 : ऊंट के मुंह में ज़ीरो ! - PICTURE PLUS Film Magazine पिक्चर प्लस फिल्म पत्रिका

नवीनतम

सोमवार, 31 दिसंबर 2018

2018 : ऊंट के मुंह में ज़ीरो !



*तेजस पूनिया
हिंदी फिल्मों का बाजार अब इतना विस्तृत हो चुका है कि इसके लिए अब सौ करोड़ी होना चुटकियों का खेल बन गया है। लेकिन कभी कभी होता यूँ है कि ‘ऊंट के मुंह में जीरा’ भी हो जाता है। और यह जीरा खिलाने वाले भी हम दर्शक वर्ग ही हैं। अब भई कोई फ़िल्म रास नहीं आई तो नहीं आई। अपने खान भाइयों को ही देख लो। तीनों ऐसे पिटे हैं इस साल कि अब इनके लिए वह कहावत सिद्ध होने का अवसर आ गया है – ‘दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक कर पीता है’ तभी तो अपने सल्लू भाई ने अगले साल यानी 2019 में आने वाली उनकी फिल्म ‘भारत’ का बजट कम करने को कहा है। खैर बात बीत रहे साल 2018 की करें तो इस साल 117 छोटी-बड़ी फ़िल्में रिलीज हुई। सिलसिलेवार तरीके से देखें तो सबसे अधिक कमाई करने वाली यानी टॉप 10 (दस) फिल्मों में पद्मावत हालांकि दूसरे नंबर पर रही किन्तु इस फिल्म ने हिन्दुस्तान के हर कोने में विवादों की ऐसी आग लगाई की संजय लीला भंसाली साहब ने उसमें अपनी रोटियां खूब सेकीं। इस फिल्म ने विश्वभर में पांच सौ पिचासी करोड़ के लगभग कारोबार किया। हालांकि यह फिल्म मध्यप्रदेश में करीबन एक महीने बाद रिलीज कर दी गई किन्तु सम्पूर्ण राजस्थान में यह पूरी तरह प्रतिबंधित रही। साल 2018 की इस फ़िल्म को सुप्रीम कोर्ट से रिलीज की हरी झंडी मिलने के बाद भी थियेटर हॉल्स में पुलिसिया चाक-चौबंध की प्रक्रिया से गुजरना पड़ा।
पहले नंबर पर रही इस साल की संजू अपने संजू बाबा की बायोपिक थी। लेकिन यह भी उनकी छवि चमकाने का एक अभियान मात्र था।  


भारतीय सिनेमा में अर्थपूर्ण सिनेमा भी का दौर हमेशा से रहा है। इस समानांतर सिनेमा में बधाई हो, राज़ी, पैडमैन, स्त्री, हल्का, कुछ भीगे अल्फ़ाज, रेड, हिचकी, ऑक्टोबर, 102 नॉट आउट, बायोस्कोपवाला, मुल्क, मंटो, सुई धागा जैसी फिल्मों को शामिल किया जा सकता है। जिन्होंने एंटरटेनमैंट ही नहीं करवाया बल्कि एक सामाजिक संदेश भी प्रसारित किया। यूं कुछ ना मुराद डायरेक्टर, प्रोड्यूसर, अभिनेता, अभिनेत्री भी हुए भी जिन्होंने सिनेमा की लुटिया डुबोने कोई कोर कसर बाकि नहीं छोड़ी। इनमें कालाकांडी, 1921, माई बर्थडे सॉंग, यूनियन लीडर, वो इंडिया का शेक्सपियर जैसी फिल्मों का निर्माण किया। इन सब में रेस 3 और ठग्स ऑफ़ हिदोस्तान, ज़ीरो जैसी खान बादशाहों से सजी फ़िल्में भी थीं जिन्होंने मेगा बजट खर्च किया मगर हाथ उनके हल्दी भी न लगी। हालांकि इस साल के आखिरी शुक्रवार को रिलीज हुई सिम्बा’ भी 100 करोड़ सीमा रेखा पार कर गई। इस फिल्म से भी विशेष उम्मीदें और कयास नहीं लगाए गए थे किन्तु रिलीज के पश्चात इसके प्रति समीक्षकों का सकारात्मक रूख इसकी हवा बदल रहा है और जाते हुए साल का एक सुखद अहसास यह फिल्म दे रही है। बाकि कुल मिलाकर साल 2018 खट्टा- मीठा रहा।
साल 2018 में बजट और कमाई के हिसाब से तीन हिस्से किए जा सकते हैं। एक खांचे में वो फ़िल्में जिनका बजट लकदक रहा लेकिन कमाई के मामले में ‘ठन-ठन गोपाल’ साबित हुई। दूसरे खांचे में वो फ़िल्में जिनका बजट ‘कंगाली में आटा’ गीला साबित हुआ। यानी कमाई भी ज़ीरो और लगाई भी यानी बजट भी ज़ीरो। तीसरा खांचा उन फिल्मों का जिनका बजट भले बूंदी के दो दाने जैसा रहा लेकिन कमाई के मामलों में जिन्होंने खूब मलाई बटोरी।
सबसे पहले बात करें उन फिल्मों की जिन्होंने खूब लकदक बजट के साथ धमाल करने के ख़्वाब संजोए मगर साबित फीकी जलेबी हुई तो उनमें सबसे पहला नाम ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तां का ही नाम लिया जाना चाहिए। यह फिल्म सिरे से पैदल साबित हुई और हिन्दुस्तान के दिलों को नहीं बल्कि बॉलीवुड को भी ठगते हुए नजर आई। इसलिए फिल्म समीक्षकों ने इसे ठग्स ऑफ़ बॉलीवुड भी कहा। इसके अलावा इसमें जीरो और रेस3 को भी शामिल किया जा सकता है दूसरी ओर वे फ़िल्में जिन्होंने ‘हींग लगे न फिटकरी रंग चोखा ही चोखा’ वाली कहावत सिद्ध की उनमें तुम्बाड, स्त्री, राजी, पैडमैन, अंधाधुन रही। और तीसरे प्रकार की फिल्मों में आप गली-गुलियां, ऑक्टोबर, गोल्ड, सत्यमेव जयते, संजू, सुई धागा, बधाई हो, हिचकी, मुल्क आदि को शामिल कर सकते हैं।
इन फिल्मों के बजट और कमाई की सूची कुछ इस प्रकार बनी है –

फिल्म का नाम          बजट (करोड़ों में)             कमाई (करोड़ों में)
संजू                 100                                               586.85
पद्मावत              215                                               585                
स्त्री                  23-24                                             180.76
पैडमैन                20                                                   186.81
राजी                  35-40                                             194.06
सोनू के टीटू की स्वीटी   30                                                  148.51
सुई धागा              35                                                    114
रेस 3                 185                                                 303
ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान    335                                                 286
बधाई हो                     29                                                    221
हिचकी                                12                                                    239.79
बागी 2                               59                                                   253
वीरे दी वेडिंग                    42                                                   138
अंधाधुन                                32                                                111
मुल्क                                    20                                                21.89
सत्यमेव जयते                     45                                                   106.68
गोल्ड                                    85                                                 151.43
मंटो                                       08                                                 3.71
ओक्टोबर (अक्टूबर)              33                                                  54.74

----
*स्वतंत्र लेखक एवं पूर्व छात्र - राजस्थान केन्द्रीय विश्वविद्यालय
संपर्क 9166373652 /  8802707162
Email - tejaspoonia@gmail.com


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad